Ticker

6/recent/ticker-posts

मुस्लिम मंत्री के विष्णुपद मंदिर में प्रवेश पर हंगामा: गया में सीएम के साथ पहुंचे इजरायली मंसूरी, गर्भगृह को गंगाजल से धोया

 बिहार सरकार के सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री इजराइल मंसूरी के विश्व प्रसिद्ध विष्णु पद मंदिर के गर्भगृह में सोमवार दोपहर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ प्रवेश को लेकर गरमागरम है. मंदिर से जुड़े पांडा समुदाय में रोष है।

प्रबंध समिति के अध्यक्ष शंभू लाल बिट्ठल ने भगवान विष्णु से माफी मांगी, पहले गर्भगृह को गंगा जल से धोया गया और फिर भगवान को अर्पित किया गया।

यह भी पढ़ें -पटना में धारा 144 लागू कर दिया गया है  मंदिर के प्रवेश द्वार पर लिखा है कि गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है

मंदिर समिति के अध्यक्ष का कहना है कि हमें इस बात की बिल्कुल भी जानकारी नहीं थी कि मुख्यमंत्री के साथ एक मंत्री भी है जो मुस्लिम संप्रदाय का है। मंदिर के प्रवेश द्वार पर लिखा है कि यहां गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है। उन्होंने कहा कि हम इस बड़ी गलती के लिए न सिर्फ भगवान से माफी मांग रहे हैं बल्कि समाज के लोगों से माफी भी मांग रहे हैं.

यह भी पढ़ें -सीएम नीतीशअगर वोटर आईडी को आधार से लिंक नहीं किया गया तो वोटर लिस्ट में नाम नहीं काटा जाएगा। चुनाव आयोग ने अफवाहों को खारिज कर दिया।      

कुमार के साथ बांध का निरीक्षण करने पहुंचे इजराइल

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार दोपहर रबर बांध का निरीक्षण करने गए थे. उनके साथ जिले के प्रभारी मंत्री इस्राइल मंसूरी भी थे। इज़राइल मंसूरी हाल ही में बनी महागठबंधन सरकार में सूचना और प्रसारण मंत्री भी हैं।

यह भी पढ़ें -: 10वीं में पढ़ रही अपनी ही बेटी को पिता ने गोली मार दी

मुख्य सचिव आमिर सुहानी को मंदिर के बाहर रोका गया

मुख्यमंत्री के साथ मुख्य सचिव आमिर सुहानी भी थे। उसे इस बात की जानकारी थी कि इस मंदिर में मुसलमानों का प्रवेश नहीं है, इसलिए वह बाहर ही रहा। लेकिन इस्राइल मंसूरी नीतीश कुमार के साथ गर्भगृह में पहुंच गए। किसी ने उन्हें नहीं बताया और न ही उन्होंने उन्हें रोका।

  यह भी पढ़ें - चाकलेट देने के बहाने चाचा ने भतीजी के साथ किया गंदा काम, आरोपी गिरफ्तार

न मंत्री रुके न स्थानीय लोग रुके

इतना ही नहीं प्रभारी मंत्री भी नहीं रुके। जबकि उन्हें खुद रुक जाना चाहिए था। यहां तक ​​कि चंदन सिंह ने भी उन्हें ऐसा करने से मना नहीं किया। जबकि उनका मंदिर क्षेत्र में ही पुश्तैनी घर है। वह धार्मिक न्यास बोर्ड के सदस्य भी हैं। भगवान विष्णु की पूजा में लगे मुख्यमंत्री और इजराइल मंसूरी हाथ पर हाथ रखे उनके पीछे खड़े हो गए। पूजा के बाद मुख्यमंत्री रबर डैम का निरीक्षण करने निकले. और बैठक के बाद पटना के लिए भी रवाना हो गए.

यह भी पढ़ें -नीतीश को पीएम बनाने के लिए कुशवाहा का बड़ा बलिदान, भविष्य में भी नहीं बनेंगे मंत्री

फोटो देखने के बाद शुरू हुआ बवाल

मुख्यमंत्री जैसे ही पूजा-अर्चना कर मंदिर से रवाना हुए। ये फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी. वायरल हुई फोटो में इजराइल मंसूरी साफ नजर आ रहा है. यह बात धीरे-धीरे देर शाम पांडा समुदाय के कानों-कान तक पहुंच गई। इसके बाद मामला तेजी से तूल पकड़ने लगा।

यह भी पढ़ें -पटना में सीएम नीतीश कुमार के काफिले पर पथराव, 3-4 वाहनों के शीशे टूटे; काफिले में नहीं थे मुख्यमंत्री

हमारी भावनाओं को ठेस पहुंची- मंदिर समिति अध्यक्ष

सदियों की परंपरा को तोड़ने का हवाला देते हुए पांडा समाज ने पूरे जोश के साथ मंदिर प्रबंध समिति के समक्ष अपनी बात रखी. आनन-फानन में मंदिर के गर्भगृह को पवित्र जल से शुद्ध किया गया। साथ ही मंदिर परिसर की सफाई भी की गई।

इसके बाद रस्म अदायगी की गई। मंदिर में मुसलमानों के प्रवेश को लेकर पांडा समुदाय काफी व्यथित है। मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष का कहना है कि इससे हमारी भावनाओं को ठेस पहुंची है !



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ