सीतामढ़ी- बाजपट्टी थाने की बदमाशी इन दिनों जोरों पर है.

Sitamarhi :-बाजपट्टी थाने की बदमाशी इन दिनों भारी पड़ रही है, आपको बता दें कि बाजपट्टी थाने में तैनात महिला थाना प्रभारी अमिता सिंह अपने बदमाशी कारनामों से सुर्खियां बटोर रही हैं, लेकिन हकीकत कुछ और है.

स्थानीय पत्रकार सन्नी कुमार गुप्ता जब बाजपट्टी थाने पहुंचे तो महिला थाना अध्यक्ष अमिता सिंह के साथ बदसलूकी की गई. आपको बता दें कि सुपुर्द करने का कारण यह है कि 16 मई को गाड़ी नहीं रुकने के कारण एक चौकीदार को 4 ढेर लग गए।

जिसका वीडियो वायरल होने लगा और जब यह खबर मीडिया में छपी और छपी तो दबंग दरोगा चौकीदार को डुमरा थाने में ले गया और उसके कुछ देर बाद ही चौकीदार ने अपना बयान बदल दिया. इस खबर को प्रकाशित करने के बाद थाने के मुखिया ने जवाबी कार्रवाई में स्थानीय पत्रकार सन्नी कुमार गुप्ता की ओर देखना शुरू कर दिया. गुरुवार को करीब 12:15 बजे स्थानीय पत्रकार सन्नी कुमार गुप्ता थाने गए और परिसर में एक शिकायतकर्ता से बात कर रहे थे. शिकायतकर्ता ने कहा कि उसने 13 तारीख को आवेदन दिया है, लेकिन उस आवेदन पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. इस दौरान मैडम का गुस्सा सातवें आसमान पर था। वह सभी से काम मांगने लगी। इसके बाद आप स्थानीय पत्रकार के साथ-साथ पत्रकार से भी बात करने लगे। आप देख सकते हैं इस वीडियो में पत्रकार के साथ कैसा व्यवहार किया जा रहा है.

इतना ही नहीं जब पत्रकार इसका जवाब दे रहा था तो उसने इसका वीडियो बनाना शुरू कर दिया और धमकी देते हुए कहा कि लिखना सिर्फ तुम्हें ही नहीं होता, हम लिखने में भी माहिर हैं। एसपी साहब भी जानते हैं। उन्होंने जेल भेजने की भी धमकी दी। उन्होंने एक एसआई और एक चौकीदार को भी हजात में बैठने का आदेश दिया। स्थानीय लोगों का कहना है कि अगर थाने की सीसीटीवी तस्वीरें मिल जाती हैं तो थाने में बैठे स्थानीय दलालों की तस्वीर भी सामने आ जाएगी.

बता दें कि 3 महीने पहले तत्कालीन एसपी अनिल कुमार ने आईजी के आरोप में बारगनिया में राकेश झा की हत्या के आरोप में अमिता सिंह को निलंबित कर लाइन को सस्पेंड कर दिया था.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ